पैसिव इन्कम क्या है? यह अमीर बनने में कैसे मदद करती है?

दुनियां के 95% लोग नौकरी करना पसंद करते हैं और बाकी के 5% लोग खुद का बिजनेस करना पसंद करते हैं।

ये जो 95% नौकरी करने वाले होते हैं उनमें से सिर्फ 13% लोग ऐसे होते हैं जो अपनी जॉब से संतुष्ट होते हैं जबकि बाकी के सभी मजबूरी में जॉब करते हैं। ये लोग अपनी जॉब से अपनी सैलरी से संतुष्ट नहीं होते हैं।

ये वे लोग होते हैं जो रिस्क लेना पसंद नहीं करते, जिन्हें फिक्स सैलरी पाना अच्छा लगता है और जो अपनी जिंदगी में आगे तो बढ़ना चाहते हैं लेकिन आगे बढ़ने के लिए संघर्ष करना उन्हें अच्छा नहीं लगता।

क्योंकि उन्हें बचपन से ही यही सिखाया जाता है कि पैसा कमाना है तो नौकरी करो, वे अभी तक सिर्फ यही सीखे हैं कि पैसा कमाने का कोई शॉर्टकट नहीं होता। यानि वे पैसा कमाने के पैसिव तरीकों को फ्रॉड समझते हैं।

ऐसे लोग अमीर लोगों को देखकर जलते हैं, और कहते हैं कि “दुनिया के सारे अमीर बुरे लोग होते हैं, अमीर, गरीबों पर अत्याचार करके व गलत काम करके अमीर बनते हैं” लेकिन ये उनके दिमाग का वहम है, यदि उनके पिता ने पहले ही पैसिव इन्कम के बारे में सीखा होता तो आज वे नौकरी नहीं कर रहे होते।

दूसरी तरफ दुनियां के 5% लोग वे लोग होते हैं जो खूब अमीर होते हैं जिनके पास पैसा भी होता है और उस पैसे को खर्च करने के लिए पर्याप्त समय भी होता है।

ये अपनी जिंदगी को खूब एन्जॉय करते हैं। ये किसी की गुलामी करना पसंद नहीं करते, इन्हें रिस्क लेना पसंद है लेकिन नौकरी करके जिंदगी भर दूसरे के लिए कमाना इन्हें पसंद नहीं होता।

इन्हें जब हफ्ते भर की छुट्टी लेकर घूमने जाना होता है तो इन्हें किसी के सामने छुट्टी मांगने के लिए नहीं जाना पड़ता। इन्हें कोई लीव एप्लिकेशन नहीं भरनी पड़ती।

आखिर ये 5% लोग अमीर बनते कैसे हैं?

ये लोग अमीर बनते हैं समय रहते हुए सही निर्णय लेने से, पैसे कमाने के सही तरीकों को चुनने से

ये लोग ऐसे काम चुनते हैं जिनसे इन्हें पैसिव इन्कम होती है, पैसिव इन्कम होती है जो अमीर बनने के लिए बहुत जरूरी है।

जो पैसिव इन्कम को अपनाते हैं वे अमीर बनते चले जाते हैं दूसरी तरफ जो लोग एक्टिव इन्कम पर ही निर्भर रहते हैं वे कर्ज में डूबते चले जाते हैं।

किस्मत और अक्ल में कौन बड़ा?

किस्मत और अक्ल में से आप क्या चुनना पसंद करोगे?

एक बार दो लोगों से पूछा गया कि किस्मत और अक्ल में से क्या चुनना पसंद करोगे एक ने जल्दी से अक्ल मांग ली और दूसरे ने किस्मत मांगी।

अब बारी बारी से इसका मतलब पूछा गया कि तुमने इन चीजों को क्यों चुना? जिसने अक्ल मांगी थी उसने जवाब दिया कि मैं अपनी अक्ल का इस्तेमाल करके बहुत धनवान बन जाऊंगा।

किस्मत चुनने वाले ने भी जवाब दिया कि मैं अपनी किस्मत के बल पर इतना धनवान बन जाऊंगा कि अपने यहां इस जैसे अनेक अक्ल वालों को नौकरी पर रख लूंगा।

इस उदाहरण का मतलब यह नहीं है कि आप मेहनत करना छोड़कर किस्मत के भरोसे छोड़ दो बल्कि कहने का अर्थ यह है कि नौकरी करने वाला कितना भी बुद्धिमान हो लेकिन उसको नौकरी देने वाला उससे ज्यादा बुद्धिमान माना जाता है।

क्योंकि उसकी वजह से उसको रोजगार मिला हुआ है इसलिए आप नौकरी करने की बजाय कुछ ऐसा करने की सोचिए जिससे आप दूसरों को रोजगार दे सकें।


इन्कम कितने तरह की होती है?

दुनियां में 2 तरह की इन्कम होती है।

एक्टिव इन्कम – यह वह इन्कम है जो नौकरी करने वालों को सैलरी के रुप में मिलती है। active income के कुछ फायदे हैं तो इसके अनेक नुकसान भी है जैसे

जब तक व्यक्ति काम करता है तब तक उसको एक्टिव इन्कम मिलती रहती है जैसे ही उसने काम छोड़ दिया तो उसकी एक्टिव इन्कम “जीरो” हो जाती है। इन्कम पूरी तरह से खत्म हो जाती है।

पैसिव इन्कम – यह वह इन्कम है जिसे एक बार शुरू किया जाता है उसके बाद कुछ भी करने की जरूरत नहीं होती और अपने आप इन्कम आती रहती है।

जैसे घर बनाकर किराये पर दे देना, पानी का प्लांट लगा देना लेकिन इन कामों में आपको शुरू में पैसा खर्च करना पड़ेगा।

इनके अलावा कुछ ऐसे काम भी हैं जिनमें आपको शुरू में कुछ भी खर्च नहीं करना होता जबसे इंटरनेट आया है तबसे ऐसे तरीकों की भरमार होती जा रही है।

लेकिन ज्यादातर लोग इनसे अंजान हैं क्योंकि उन्हें बचपन से ही यही सिखाया जाता है कि खूब पढ़ो और अच्छी नौकरी करो।

जबकि अमीरों के बच्चों को पढ़ाई के बाद नौकरी करने के बजाय धन कमाने के लिए पैसिव इन्कम के तरीकों को भी सिखाया जाता है।

ताकि वे अपनी अमीरी को बरकरार रख सकें।

यदि आप भी पैसिव इन्कम कमाकर अमीर बनना चाहते हैं तो हम आपको ऐसे कुछ ऑनलाइन काम बताने जा रहे हैं जिनसे आप ऑनलाइन पैसा कमा सकते हैं

यह कमाई पैसिव होगी यानि काम करो या ना करो एक बार सिस्टम शुरू कर देने के बाद इन्कम आती रहेगी।

  • यूट्यूब पर वीडियो बनाकर अपलोड करके कमाई करें।
  • किंडल पर किताब अपलोड करके कमाई करें।
  • ब्लॉग पर लिखकर कमाई करें।
  • पोडकास्ट पर अपनी आवाज में रिकॉर्डिंग करके कमाई करें।

अमीर लोग कैसे हमेशा अमीर बने रहते हैं?

अमीर बनने के लिए हमें अमीर लोगों की तरह की सोचना पड़ता है। इंसान दोनों एक ही तरह के होते हैं लेकिन अमीर और गरीब में सिर्फ उनकी सोच का ही फर्क होता है।

किसी गरीब के पास करोड़ों रुपये आ जाये तो वह अपनी गरीब सोच से उस सारे पैसे को बर्बाद कर देता है।

जबकि अमीर अपनी सोच से लाखों रुपयों को करोड़ों में बदल लेता है।

अमीर लोग अपने पैसों को ऐसी जगह लगाते हैं जहां से उन्हें पैसिव इन्कम आती रहती है।

अमीर लोग कोई काम शुरू करने से पहले खूब जांच पड़ताल करते हैं, मार्किट रिसर्च करते हैं।

अमीर लोग दिखावा नहीं करते हैं, वे जरूरत की चीजें ही खरीदते हैं।

अमीर लोग अपनी जरूरतों की लिस्ट बनाते हैं और जो सबसे ज्यादा जरूरी होती है उसे खरीदते हैं।

अमीर लोग अपने प्रत्येक खर्चे को लिखते हैं ताकि उन्हें यह पता लग सके कि उन्होंने किस चीज पर कितना पैसा खर्च किया जिससे कि यह जान सकें किस चीज पर जरूरत से ज्यादा खर्चा हुआ है।

अमीर लोग अपने बच्चों से कहते हैं कि मैं यह चीज कैसे खरीद सकता हूँ ताकि उसके बच्चे को यह सोचने का मौका मिले, और वह इस सवाल को ढूंढे।

जबकि गरीब लोग कहते हैं कि मैं यह चीज नहीं खरीद सकता क्योंकि मेरे पास पैसे नहीं है। और इस तरह उसका बच्चा कुछ भी सोच नहीं पाता और उसके मन में यही सोच घर कर जाती है।

Leave a Reply